आप लिक्विड फण्ड के बारे में क्या जानते हैं??

आपके  पास कुछ रुपये हाथ में है लेकिन उन्हें FIXED DEPOSIT में निवेश नहीं करना चाहते हैं? फिर, अपने बचत बैंक में वह AMOUNT रखने के बजाय, आप LIQUID FUND जैसे विकल्प चुन सकते हैं। वर्तमान HIGH INTEREST RATE परिदृश्य में, यदि आप अपने धन को अपने पास रखते समय थोड़ा कमाने की इच्छा रखते हैं, तो लिक्विड फंड बचत खाते से बेहतर काम कर सकते हैं। आपको इन फंड्स में 7-9% के बीच ब्याज मिल सकता है जो फिक्स्ड डिपॉजिट से बेहतर है और उससे कही ज़्यादा फायदे भी जो हम आगे देखेंगे|

लिक्विड फंड्स एक प्रकार के DEBT MUTUAL FUNDS होते हैं जो आपके पैसे को बहुत कम अवधि के मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे कि ट्रेजरी बिल्स, सरकारी सिक्योरिटीज इत्यादि में निवेश करते हैं और कम से कम जोखिम वाले पैसे कहते हैं। ये फंड 91 दिनों की MATURITY तक के उपकरणों में निवेश कर सकते हैं और आम तौर असल में परिपक्वता ज्यादातर इससे बहुत कम होती है।

फंडों के एनएवी (नेट एसेट वैल्यू) की गणना 365 दिनों के लिए की जाती है, अन्य डेट म्यूचुअल फंडों के विपरीत, जहां एनएवी केवल व्यावसायिक दिनों के लिए गणना की जाती है। लिक्विड फंड्स में LOCK-IN PERIOD का कोई प्रतिबंध नहीं है। ये धनराशि निकासी को व्यावसायिक दिनों में 24 घंटे के भीतर संसाधित करने की अनुमति देता है। इसलिए समय की कटौती (दोपहर 2:00 बजे) के भीतर प्राप्त सभी लेन-देन के लिए इकाइयों को पिछले दिन के अनुसार आवंटित किया जाता है। लिक्विड फंड में सबसे कम ब्याज जोखिम होता है जो सभी डेट फंडों से जुड़ा होता है। इसका कारण यह है कि वे मुख्य रूप से लघु आय के साथ निश्चित आय प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं। लिक्विड फंड का एक और उल्लेखनीय लाभ यह है कि उनके पास कोई ENTRY LOAD या EXIT LOAD नहीं है।

लिक्विड फंड के फायदे

कम से कम जोखिम (MINIMUM RISK),

लिक्विड फंड जोखिम का कम से कम स्तर रखते हैं और सभी प्रकार के डेट म्यूचुअल फंडों में उनकी कम परिपक्वता अवधि के कारण कम से कम अस्थिर होते हैं और यह तथ्य कि ये फंड ज्यादातर उच्च क्रेडिट रेटिंग वाले उपकरणों में निवेश करते हैं।

 

रिटर्न (RETURNS),

फिक्स्ड डिपॉजिट दरों की तरह, लिक्विड फंड रिटर्न अर्थव्यवस्था में प्रचलित ब्याज दर के आधार पर शिफ्ट होता है। भारत में रेपो दर 2014 में 8% से कम होकर अब 6% हो गई है। इसी कारण से 2014 में 9% की उच्च दर से, एक वर्ष की एसबीआई फिक्स्ड डिपॉजिट दर अब 6.80% है और इसी तरह लिक्विड फंड रिटर्न भी 2014 में 9-9.2% वार्षिक रिटर्न से घटकर अब लगभग 7-7.5% हो गया है। पर यह रिटर्न एफडी से हल्का ऊपर रहते है और इसमे कोई लोक-इन अवधि ना होने के कारण बेहतर है|

 

हाई लिक्विडिटी (HIGH LIQUIDITY),

लिक्विड फंड निवेशकों को बेमिसाल लिक्विडिटी मुहैया कराते हैं क्योंकि इतने कम समय के लिए पैसा लगाया जाता है। जिससे ये फंड निवेशकों को जरूरत पड़ने पर अपने निवेश को भुनाने की अनुमति देते हैं। REDUMPTION पर, लिक्विड फंड से आपकी आय 1-2 दिनों के भीतर आपके खाते में जमा हो जाती है।

 

इंस्टेंट रिडेम्पशन (INSTANT REDUMPTION),

कुछ लिक्विड फंड इंस्टेंट रिडेम्पशन (जैसे आईसीआईसीआई लिक्विड फंड) की सुविधा प्रदान करते हैं। इसका मतलब है कि ऑनलाइन आदेश रखने पर, आपको तुरंत अपने बैंक खाते में आय प्राप्त होती है। हालांकि, बाजार नियामक सेबी (भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड) ने तत्काल रिडेम्पशन की राशि को रु 50,000 या पोर्टफोलियो मूल्य का 90%, जो भी कम है तक सीमित रखा है। कुछ म्यूचुअल फंड्स ने लिक्विड फंडों को डेबिट कार्ड जैसे रिलायंस म्यूचुअल फंड से जोड़ा है यानी आप अपने लिक्विड फंड में जमा राशि को सीधा एटीएम कार्ड के द्वारा भी इस्तमाल कर सकते है।

लिक्विड फंड्स पर कैसे टैक्स लगता है?

एक प्रकार का डेट फंड होने के नाते, लिक्विड फंड कैपिटल गेन टैक्स के अधीन हैं। कराधान की दर होल्डिंग अवधि पर निर्भर करती है, अर्थात वह अवधि जिसके लिए निवेशक ने अपने धन को कोष में निवेशित रखा है। अगर होल्डिंग पीरियड 36 महीने से कम है, तो लिक्विड फंड शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स (STCG) टैक्स को आकर्षित करता है और अगर होल्डिंग पीरियड 36 महीने या उससे अधिक है, तो उस पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स लगता है।

STCG आपके आयकर स्लैब दर (जो 30% के रूप में उच्च हो सकता है) पर लगाया जाता है। एलटीसीजी पर इंडेक्सेशन के साथ 20% की दर से कर लगता है। इंडेक्सेशन मुद्रास्फीति या बढती महंगाई को ध्यान में रखकर दिया जाने वाला आराम है और इसी कारण से एफडी के मुकाबले लिक्विड फंड्स में कम कर लगता है। बल्कि एफडी में तो एडवांस टैक्स लगता है यानी कि लोक-इन अवधि के दौरान आपको ब्याज पर टैक्स भरना पडता है जबकि आपको वह ब्याज का फायदा लोक-इन के बाद परिपक्वता पर मिलता है|

Written by 

Welcome to Invest India Online. Financial freedom means something different to every single one of our clients. For some, it means having enough money in retirement to build a second home and send the grandchildren to college.