क्या करें, अगर आपका LIC POLICY BOND खो गया है??

What to do if you have lost your LIFE INSURANCE BOND?

 

क्या आपका भारतीय जीवन बीमा की पालिसी का बांड खो गया है? अब आप एलआईसी (Life Insurance Corporation of India, LIC) से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड (Duplicate Policy Bond) प्राप्त करना चाहते हैं? आपका पॉलिसी बॉन्ड एक बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज है। यह आपके और भारतीय जीवन बीमा निगम के बीच किये गए बीमा समझौते का मुख्य प्रमाण है। जब भी आप या आपका नामांकित व्यक्ति किसी दावे के लिए एलआईसी LIC (भारतीय जीवन बीमा निगम) के पास जाता है, तो आपको या आपके नॉमिनी को मूल पॉलिसी बॉन्ड का प्रस्तुत करना होता है।

पॉलिसी बॉन्ड POLICY BOND या क्षतिपूर्ति बॉन्ड  iNDEMNITY BOND जमा किए बिना परिपक्वता और मृत्यु दावों (Maturity and Claim settlements) का निपटान नहीं किया जा सकता है। दूसरे शब्दों में, यदि किसी मामले में, पॉलिसी में कोई दावा उत्पन्न होता है, और आपके पास पॉलिसी बॉन्ड नहीं है, तो उस स्थिति में आप क्षतिपूर्ति बॉन्ड को प्रारूप 3815 में जमा कर सकते हैं। लेकिन, क्या होगा अगर निकट भविष्य में कोई दावा देय नहीं है और आपका पॉलिसी बॉन्ड खो गया है?

इस बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है। आप एलआईसी से डुप्लीकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त कर सकते हैं। तो, आइए देखते हैं, एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त करने की प्रक्रिया क्या है।

 

  1. डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड के लिए आवेदन करें और संबंधित फॉर्म प्राप्त करें

    APPLY FOR DUPLICATE POLICY BOND

  2. 2: क्षतिपूर्ति बॉन्ड और प्रश्नावली को पूरा करें और एलआईसी को जमा करें FILL INDEMNITY BOND AND QUESTIONNAIRE AND SUBMIT AT OFFICE

  3. 3: एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड के लिए शुल्क जमा करें DEPOSIT FEE

  4. 4: डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड की तैयारी HOW TO PREPARE FOR BOND

  5. 5: डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त कीजिए GET YOUR DUPLICATE POLICY BOND

 

 

 

1: डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड के लिए आवेदन करें और संबंधित फॉर्म प्राप्त करें

APPLY FOR DUPLICATE POLICY BOND

आपका पॉलिसी बॉन्ड एक कानूनी दस्तावेज है। इसलिए, जब भी आप एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त करने के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो आपको क्षतिपूर्ति बॉन्ड (Indemnity Bond) जमा करना होगा। जब आप एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त करने के लिए आवेदन करते हैं, तो कार्यालय आपसे क्षतिपूर्ति बॉन्ड जमा करने के लिए कहेगा। यह क्षतिपूर्ति बॉन्ड आपको एलआईसी के ही प्रारूप 3756 में ही देना होगा। साथ ही आपको एक निर्धारित प्रश्नावली प्रस्तुत करने के लिए कहा जाएगा जो इस बारे में विवरण प्रदान करता है कि पॉलिसी बॉन्ड कैसे खो गया है।

 

2: क्षतिपूर्ति बॉन्ड और प्रश्नावली को पूरा करें और एलआईसी को जमा करें FILL INDEMNITY BOND AND QUESTIONNAIRE AND SUBMIT AT OFFICE

आपको LIC से एक प्रारूप 3756 और एक प्रश्नावली मिलेगी, आपको इन फॉर्मों को पूरा करना होगा और वैध पते के प्रमाण और पहचान प्रमाण के साथ भारतीय जीवन बीमा निगम में जमा करना होगा।

3756 को पूरा करने के लिए आपको एक गैर-न्यायिक स्टांप पेपर खरीदना होगा। दूसरे शब्दों में, क्षतिपूर्ति बॉन्ड को उचित मूल्य के गैर-न्यायिक स्टैंप पेपर पर नोटरी किया जाना चाहिए। स्टांप पेपर का मूल्य हर राज्य के लिए अलग-अलग होता है(राज्य के द्वारा जारी स्टाम्प ड्यूटी नियमों के अनुसार)। कृपया एलआईसी कार्यालय से आवश्यक स्टाम्प पेपर के सही मूल्य की पुष्टि करें।

स्टांप पेपर पर फॉर्म 3756 प्रिंट करें और आवश्यक विवरण भरें। आपको 3756 फॉर्म में पॉलिसीधारक के नाम और पॉलिसी नंबर भरने हैं। फॉर्म 3756 पर हस्ताक्षर करने के लिए आपको दो गवाहों की आवश्यकता है।

भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा प्रदान किए गए पॉलिसी बॉन्ड गुम हो जाने संबंधी प्रश्नावली को भरें। यह एक सरल प्रश्नावली है और इसके लिए किसी गवाह की आवश्यकता नहीं है। इसके लिए किसी स्टांप पेपर की भी जरूरत नहीं है। दूसरे शब्दों में, यह इस बारे में पूछता है कि आपने अपना पॉलिसी बॉन्ड कैसे खो दिया? क्या आपने बॉन्ड खोजने का कोई प्रयास किया है? इत्यादि।

duplicate policy bond from LIC

 

3: एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड के लिए शुल्क जमा करें DEPOSIT FEE

एलआईसी से डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त करने के लिए, आपको एक शुल्क जमा करना होगा। इस शुल्क को डुप्लिकेट पॉलिसी शुल्क कहा जाता है। आपको रु 75 का डुप्लीकेट शुल्क जमा करना होगा। साथ ही रु. 0.20 प्रति हजार बीमाधन की दर से पॉलिसी स्टैंप शुल्क जमा करना होगा (हर बीमा पॉलिसी पर बीमाधन के अनुसार पॉलिसी स्टाम्प लगाया जाता है)। इसके अतिरिक्त, आपको डुप्लिकेट पॉलिसी शुल्क पर 18% GST का भुगतान करना होगा (पॉलिसी स्टाम्प चार्जेस पर GST नहीं लगता है)।

जानिये 10000/मासिक की SIP आपको कितने समय में करोड़पति बना सकती है??

 

4: डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड की तैयारी HOW TO PREPARE FOR Duplicate policy BOND

यदि एलआईसी आपके कागज को सही एवं पूर्ण पाता है तो वे आपके आवेदन के अनुसार आपके डुप्लीकेट पॉलिसी के अनुरोध को पूरा करेंगे। DUPLICATE के रूप में चिह्नित एक नया पॉलिसी बॉन्ड आपके लिए तैयार किया जाएगा। पॉलिसी बॉन्ड की तैयारी में 2 से 7 कार्य दिवस लग सकते हैं। बेशक, डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड तैयार करने में लगने वाला समय अलग ऑफिस से अलग होगा। इस बीच, आप हमेशा कार्यालय को कॉल कर सकते हैं और पॉलिसी बॉन्ड की स्थिति जान सकते हैं।

 

5: डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त कीजिए GET YOUR DUPLICATE POLICY BOND

यदि आप चाहते हैं, तो आप एलआईसी कार्यालय से सीधे एक पॉलिसी बॉन्ड एकत्र कर सकते हैं। बेशक, आपको डुप्लिकेट एलआईसी पॉलिसी बॉन्ड को हाथ से या एलआईसी एजेंट (LIC AGENT) के माध्यम से प्राप्त करने के लिए लिखित सहमति देनी होगी।

अगर आप स्वयं पॉलिसी नहीं लेते है तो LIC (भारतीय जीवन बीमा निगम) आपके पंजीकृत पते (REGISTERED ADDRESS) पर डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड भेजेगा। यदि आपका पता बदल गया है, तो आप इसे सरल चरणों में एलआईसी ग्राहक पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन बदल सकते हैं,

LIC में अपनी जानकारी ऑनलाइन कैसे सही कर सकते हैं??

 

आवेदन करने से पहले ध्यान रखने के लिए अन्य बिन्दु

भारतीय जीवन बीमा निगम से डुप्लीकेट पॉलिसी बॉन्ड के लिए आवेदन करने से पहले कुछ और बातें भी आपको ध्यान में रखनी चाहिए।

  1. अगर आपकी पुरानी पॉलिसी किसी कारणवश फट गयी है या ख़राब हो गयी है। किन्तु फटे टुकड़ों में आपकी पॉलिसी संख्या स्पष्ट दिखाई दे रही है तो, आपको क्षतिपूर्ति बॉन्ड जमा नहीं करना है। हालाँकि पॉलिसी स्टैम्प शुल्क के साथ डुप्लिकेट पॉलिसी शुल्क + जीएसटी (DUPLICATE POLICY FEE+ GST) जमा करना होगा।
  2. क्षतिपूर्ति बॉन्ड तैयार करने से पहले एलआईसी शाखा के साथ गैर-न्यायिक स्टाम्प पेपर (NON JUDICIAL STAMP PAPER) के मूल्य की पुष्टि करें। दूसरे शब्दों में, यदि आप सही मूल्य की जानकारी नहीं लेते हैं तो आपको अतिरिक्त स्टाम्प पेपर खरीदने के लिए फिर से दर्द उठाना पड़ सकता है। इसके विपरीत, आप आवश्यकता से अधिक मूल्य के स्टाम्प शुल्क (STAMP PAPER DUTY) ले सकते हैं।
  3. इससे पहले आपको भारतीय जीवन बीमा निगम से डुप्लीकेट पॉलिसी बॉन्ड (DUPLICATE POLICY BOND प्राप्त करने के लिए पॉलिसी बॉन्ड के नुकसान के बारे में एक समाचार पत्र में विज्ञापन देना होता था। अब, यह भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा यह नियम हटा लिया गया है।
  4. अपने क्षतिपूर्ति बॉन्ड (INDEMNITY BOND) के साथ उचित और वैध पता और पहचान प्रमाण (ID AND ADDRESS PROOF) जमा करें। यदि आप उचित केवाईसी (KYC = KNOW YOUR CUSTOMER) दस्तावेज जमा करने में असमर्थ हैं, तो आपको एक समाचार पत्र में विज्ञापन देना पड़ सकता है।
  5. अगर आपको पॉलिसी सरेंडर (POLICY SURRENDER) करने पर डुप्लिकेट पॉलिसी बॉन्ड (DUPLICATE POLICY BOND) के लिए अलग फॉर्म की जरूरत है, वही मैच्योरिटी क्लेम (MATURITY CLAIM) और डेथ क्लेम (DEATH CLAIM) के लिए लगाया जाता है। आपको इस उद्देश्य के लिए एक और प्रारूप यानी FORM 3815 का उपयोग करना होगा.

अधिक जानकारी के लिए आप यहाँ क्लिक कीजिये

 

Invest India Online

Written by 

Welcome to Invest India Online. Financial freedom means something different to every single one of our clients. For some, it means having enough money in retirement to build a second home and send the grandchildren to college.